पाकिस्तान और सऊदी अरब के बीच बिगड़े रिश्ते

सी. क्रिस्टीन फ़ैर

Nov 28, 2021 

31 अक्टूबर को, पाकिस्तान के प्रधान मंत्री ने सऊदी अरब को “वर्ष के दौरान $3 बिलियन जमा करने और $1.2 बिलियन विकाशन किया हुआ  पेट्रोलियम उत्पादों के वित्तीयन के लिए” उसकी हालिया प्रतिबद्धता के लिए कृतज्ञता व्यक्त की, और आगे कहा कि दोनों राज्य के दरमियान  “लंबे समय से भाईचारे और आपसी संबंध, जो साझा आस्था, साझा इतिहास और आपसी समर्थन पर आधारित हैं”|  इमरान खान ने आगे कहा कि यह कदम “दोनों राज्यों के बीच सदाबहार दोस्ती की पुष्टि करता है“।

यह वाकपटुता मात्र एक छोटा “अंजीर का पत्ता” है जो सत्य को छुपाता है: दोनों राज्यों के सम्बन्ध में लम्बे समय से तनाव है |  रियाद ने अब एक सौहार्दपूर्ण संबंध बनाने का प्रयास क्यों किया है? अफ़ग़निस्तान में हाल के घटनाक्रम और पाकिस्तान की तरफ़ ईरानी कहाव कुछ हद तक इस कदम की व्याख्या किये जा सकते, लेकिन भारत के साथ रियाद के बढ़ते आर्थिक संबंध सऊदी-पाकिस्तान संबंधों की सीमाओं को बाधित करेंगे।

जन्नत खतरे में है

पाकिस्तान और सऊदी अरब के संबंध सऊदी अरब के विशाल संपत्ति के अधिग्रहण से पहले के हैं। 1960 के दशक के दौरान, दोनों राज्यों ने पारस्परिक कारणों से एक-दूसरे को महत्व दिया। सऊदी ने सराहना की कि पाकिस्तान, मिस्र में जमाल अब्देल नासिर के समाजवादी शासन के प्रत्युपाय के रूप में, सऊदी के सशस्त्र बलों को सैन्य प्रशिक्षण प्रदान किया|  सऊदी अरब ने सैन्य प्रशिक्षण के लिए पाकिस्तान भेजा।  बाद में, 1960 के दशक के मध्य में एक समझौते के बाद, सेवानिवृत्त पाकिस्तानी सैन्य अधिकारी राज्य के सशस्त्र बलों के निर्माण के लिए सऊदी अरब गए|  इन अनुभवों  से, पाकिस्तान 1965 और 1971 में भारत से अपनी हार के बाद भी एक अंतरराष्ट्रीय उपस्थिति स्थापित कर सकता था| 

1970 के दशक के अंत में कई घटनाओं ने सऊदी की रुचि पाकिस्तान की सैन्य मदद से अपनी सुरक्षा को मजबूत करने में  बढ़ाई । इनमें विद्रोहियों द्वारा 1979 में मक्का में मस्जिद की घेराबंदी, ईरानी क्रांति, ईरान-इराक युद्ध और अफ़ग़निस्तान पर सोवियत आक्रमण शामिल हैं।

1981 तक, पाकिस्तान सरकार ने स्वीकार किया कि “सऊदी अरब में 1500 से 2,000 आदमी  सैनिक ड्यूटी पर हैं, जिसमें वे इंजीनियरिंग और प्रशिक्षण असाइनमेंट के रूप में वर्णित करते हैं“। बदले में, सऊदी अरब ने पाकिस्तान को शायद 1 अरब डॉलर का भुगतान किया। इस अवधि के दौरान, पश्चिमी ख़ुफ़िया एजेंसियां ​​पाकिस्तान के परमाणु बम बनाने के प्रयासों से अवगत थीं। 1980 के दशक के दौरान, पाकिस्तान सऊदी उदारता का लाभार्थी बन गया, और सऊदी अरब पाकिस्तान की सैन्य परिसंपत्ति से फ़ायदा उठाता गया।

जैसे-जैसे पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति और गंभीर होती गई, सऊदी अरब पर उसकी निर्भरता गहरी होती चली गई। सऊदी अरब उपकृत करने से अधिक खुश था: इसने सब्सिडी वाले पाकिस्तानी तेल आयात करने के लिए कर्ज़ भुगतान स्थगित कर दिया; मदरसों के बड़े नेटवर्क बनाने में मदद की | सऊदी ने पाकिस्तान के 1998 के परमाणु परीक्षणों के बाद प्रतिबंधों के प्रभाव को कम कर दिया और बदले में, पाकिस्तान ने सऊदी अरब को सैन्य सहायता प्रदान की और अपने क्षेत्रीय हितों को बढ़ाने में मदद की|  इसके अलावा, सऊदी अरब में पाकिस्तानी प्रवासी श्रमिकों के विप्रेषित धन पाकिस्तान के कुल विदेशी प्रेषण धन का लगभग एक-चौथाई हिस्सा है, जबकि पाकिस्तान सऊदी अरब को बहुत आवश्यक मानव संसाधन प्रदान करते हैं।

सऊदी अरब पर पाकिस्तान की अत्यधिक वित्तीय निर्भरता को देखते हुए रियाद ने उम्मीद लगाई कि  पाकिस्तान यमन में सऊदी के क्रूर अभियान में जहाजों, विमानों और सैनिकों मे योगदान करेगा, परंतु जब पाकिस्तान ने से इनकार किया तो सऊदी अरब उग्र हो गया| सऊदी अरब यमन में सैन्य बल द्वारा राष्ट्रपति अब्दराबुह मंसूर हादी को बहाल करना चाहता है। सऊदी अरब को इस मिशन में पाकिस्तान की सहायता की उम्मीद थी, लेकिन अप्रैल 2015 में, पाकिस्तान की संसद ने तटस्थ रहने के लिए मतदान किया। तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के सऊदी अरब के साथ घनिष्ठ संबंधों के बावजूद, शरीफ़ कि सेना के विरोध ने उनकी सरकार को रियाद की नज़र में अविश्वसनीय बना दिया। रियाद की झुंझलाहट को शांत करने के लिए, पाकिस्तान ने सऊदी अरब और उसके सहयोगियों के साथ 2016 के “नॉर्थ थंडर” सैन्य अभ्यास में भाग लिया और इसके अतिरिक्त दोनों देशों के विशेष बलों के साथ संयुक्त अभ्यास किया।

शरीफ सरकार ने अतिरिक्त रूप से 1,000 से अधिक सैनिकों को सऊदी अरब में भेजा, जिसने सऊदी अरब में पहले से तैनात 1,600 को “इस्लामी पवित्र स्थलों को सुरक्षित करने और अन्य आंतरिक सुरक्षा भूमिकाओं में सेवा करने” के लिए बढ़ाया।  नवंबर 2017 में शरीफ की सरकार सऊदी के नेतृत्व में इस्लामिक मिलिट्री काउंटर-टेररिज्म गठबंधन में शामिल हो गई, जिसमें 41 इस्लामिक देशों के सैनिकों ने भाग लिया। पाकिस्तान के सेवानिवृत्त सेना प्रमुख राहील शरीफ ने समूह की कमान संभाली। इस गठबंधन का उद्देश्य पूरे मुस्लिम दुनिया में आतंकवादी समूहों और उनकी गतिविधियों से लड़ना था।

अगस्त 2018 में, पाकिस्तान सेना ने इमरान खान को प्रधानमंत्री के रूप में चुना, जो कि रावलपिंडी और इस्लामाबाद के बीच अधिक से अधिक संरेखण का सुझाव दे रहा था । एक संक्षिप्त अवधि के लिए, प्रधान मंत्री खान और सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने मिलनसार का आनंद लिया| 

जैसे ही खान प्रधान मंत्री बने, वैसे ही पाकिस्तान की सेना ने रियाद से एक आर्थिक पैकेज हासिल कर लिया था और क्राउन प्रिंस ने व्यक्तिगत रूप से खान को निवेश पर एक सम्मेलन में भाग लेने के लिए किंगडम आने के लिए आमंत्रित किया था। अमेरिका में रहने वाले एक विरोधी सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी की 2018 की हत्या के बाद प्रतिष्ठापूर्ण आमंत्रित लोगों ने सम्मेलन में भाग लेने से इनकार कर दिया था । सम्मेलन के एक महीने के भीतर, 3 अरब डॉलर के ऋण में से पहला $1 बिलियन पाकिस्तान को दिया गया था।

 क्षेत्र में रियाद के कनिष्ठ साथी, अबू धाबी ने एक तुलनीय पेशकश की। एक कुशल ग्राहक को पुरस्कृत करने के लिए, फरवरी 2019 में, मोहम्मद बिन सलमान ग्वादर में एक अरामको तेल रिफाइनरी सहित, $20 बिलियन की परियोजनाओं के साथ, व्यवसायियों के एक दल के साथ इस्लामाबाद पहुंचे| (2021 में, सऊदी ने रिफाइनरी परियोजना को कराची में स्थानांतरित करा ।) मार्च 2019 में, पाकिस्तान ईरान के ख़िलाफ़ सऊदी के नेतृत्व वाले गठबंधन में शामिल हो गया | पाकिस्तान की भागीदारी ने राज्य के प्रति पाकिस्तान की प्रतिबद्धता के बारे में रियाद की चिंताओं को कम कर दिया।

एक अल्पकालिक राहत

अगस्त 2019 में, भारत ने कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त कर दिया। दिल्ली के इस फैसले से पाकिस्तान नाराज था|  सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात के इस मामले पर चुप्पी साधे रहने और ऐसे ही बने रहने से पाकिस्तान और परेशान हो गया था| इसके विपरीत तुर्की और मलेशिया ने पाकिस्तान के साथ मिलकर इस फ़ैसले का विरोध किया| तीन देशों ने भारत के साहसिक कदम के बारे में अरबों को आगाह करते हुए एक वैकल्पिक इस्लामिक ब्लॉक बनाने का विचार किया। 

मलेशिया ने दिसंबर में एक शिखर सम्मेलन निर्धारित किया। मलेशिया के प्रधानमंत्री ने सूचित किया कि यह “इस्लामिक सहयोग के निष्क्रिय, सऊदी-प्रभुत्व वाले संगठन के लिए एक वैकल्पिक ब्लॉक के रूप में कार्य करेगा।” अंततः, सऊदी धमकियों के तहत, पाकिस्तान कुआलालंपुर शिखर सम्मेलन से हट गया, जिसमें सऊदी के क्षेत्रीय प्रतिद्वंद्वियों ने, यानी कतर, तुर्की और ईरान, भाग लिया था

कश्मीर को उसके विशेष दर्जे से छीनने के भारत के फैसले की बरसी पर, और सऊदी की निष्क्रियता से हताशा होने के बाद, पाकिस्तान के विदेश मंत्री, शाह महमूद कुरैशी, ने मांग की कि सऊदी अरब इस मामले पर नेतृत्व दिखाए और ओ.आई.सी की एक विशेष बैठक बुलाए। अगर रियाद ने इनकार करा, तो कुरैशी ने मलेशिया, तुर्की और ईरान की ओर रुख करने की धमकी दी, जिन्होंने इस मामले में पाकिस्तान का साथ दिया| 

रियाद खुश नहीं था। उन्होंने मांग की कि पाकिस्तान तुरंत 1 बिलियन डॉलर का भुगतान करे, जो नवंबर 2018 में पाकिस्तान को दिए गए 3 बिलियन डॉलर का हिस्सा था|  अब जब चीन ने पाकिस्तान की मदद के लिए कदम बढ़ाया है , एक महत्वपूर्ण सवाल लटका हुआ है:  सहायता पर निर्भर पाकिस्तान के पास अपने उपकारी के ऊपर क्या उद्यामन है?

क्या भविष्य?

सच तो यह है कि सऊदी अरब ने भी दीवार पर लिखावट देखी है। 2019-20 में, भारत और सऊदी अरब के बीच द्विपक्षीय व्यापार 44 बिलियन डॉलर से अधिक का था, जबकि पाकिस्तान के साथ व्यापार केवल 3.6 बिलियन डॉलर था। मोहम्मद बिन सलमान को नकदी की परवाह है, न कि मुस्लिम दुनिया में मंजस्य।

इस वास्तव पर जोर देने के लिए, मोहम्मद बिन सलमान ने झिंजियांग में चीन की नीतियों का समर्थन किया, जिसे अन्य राज्यों ने “जातिसंहार” घोषित किया है। चीन सऊदी अरब का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है।

हालाँकि, सऊदी अरब इस क्षेत्र के सबसे महत्वपूर्ण घटनाक्रमों से बाहर रह गया है: अफ़ग़निस्तान में तालिबान की जीत जो पाकिस्तान के अथक सैन्य, राजनयिक और राजनीतिक समर्थन के कारण संभव हुई। 2013 में, तालिबान ने दोहा में अपना पहला विदेशी कार्यालय खोला। कतर सऊदी अरब का अहम प्रतिद्वंद्वी है| उस समय  से, दोहा और चीन ने, पाकिस्तान, तुर्की और अमेरिका के साथ-साथ, सऊदी अरब के बिना, अफ़ग़निस्तान कि घटनाओं मे अपना प्रभाव डाल दिया है| 

कई वर्षों तक अपने क्षेत्रीय प्रतिद्वंद्वियों द्वारा ग्रहण किए जाने के बाद, सऊदी अरब इस क्षेत्र में अपनी प्रमुखता को फिर से स्थापित करना चाहता है। हालांकि सऊदी अरब पाकिस्तान के इशारे पर भारत के साथ संबंधों को सीमित नहीं करेगा, वह ईरान के साथ संबंधों को फिर से स्थापित करने के लिए पाकिस्तान के प्रलोभन को सीमित करना चाहता है। बीजिंग के साथ पाकिस्तान की साझेदारी, जो लगभग पूरी तरह से कर्ज पर आधारित है, सऊदी अरब की जगह नहीं ले सकती, जिसका अभी भी मुस्लिम दुनिया में बहुत प्रभाव है। हालांकि पाकिस्तान को कश्मीर पर सऊदी समर्थन नहीं मिलेगा, वह रियाद के चेक को भुनाकर पूरी तरह से खुश है।

A version of this was published in the Indian Star on 28 November 2021.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s